Qafile Noor Ke Lyrics – Yasser Desai

Qafile Noor Ke Lyrics – Yasser Desai

क़ाफिले नूर के Qafile Noor Ke Lyrics in hindi & english – Yasser Desai

Song: Qafile Noor Ke
Singer: Yasser Desai
Music: Rashid Khan
Lyrics: S Faheem Ahmed

Qafile Noor Ke Lyrics in English


Qafile noor ke tere sang sang chalein
Aasmaan mein chand bhi jaise khile khile

Aa..aa..

Qafile noor ke tere sang sang chalein
Aasmaan mein chand bhi jaise khile khile
Kehkashaaon se teri zameen sazi
Khoobsurat ho gaya aalam sabhi
De ijaazt tu mujhe
Ishq kar loon main tujhe

Tere jalwo ki baarish kabhi thamti nahin
Pyar ki meri khwahish kabhi ghatti nahin

Aaa..aa..oo
Tere jalwo ki baarish kabhi thamti nahin
Pyar ki meri khwahish kabhi ghatti nahin
Hoor jannat ki mujhe lagti hai tu
Meri nazaron ko badi jachti hai tu
Dekh manzar badh gaye hai hausle

Qafile noor ke tere sang sang chalein
Aasmaan mein chand bhi jaise khile khile

Chhaa gaya mujh pe aisa tera hi khumaar
Kar le mehfil mein teri, ab to mera shumaar

Ho..
Chhaa gaya mujh pe aisa tera hi khumaar
Kar le mehfil mein teri, ab to mera shumaar
Apni saanson mein mujhe basa le tu
Tujhe marne ka mujhe sila de tu
Ab to kar le kuch na kuch tu faisale

Qafile noor ke tere sang sang chalein
Aasmaan mein chand bhi jaise khile khile



 Qafile Noor Ke Lyrics in Hindi


क़ाफिले नूर के तेरे संग संग चले
असमान मैं चाँद भी जैसे खिले खिले

आ.. आ..

क़ाफिले नूर के तेरे संग संग चले
असमान मैं चाँद भी जैसे खिले खिले
कहकशाओ से तेरी ज़मीन सज़ी
खुबसूरत हो गया आलम सभी
दे इज्ज़त तू मुझे
इश्क कर लूं मैं तुझे

तेरे जलवो की बाराशी कबि थमती नहीं
प्यार की मेरि ख्‍वाहिश कबि घटती नहीं
आ.. अ.. ओ

तेरे जलवो की बारीश कभी थमती नहीं
प्‍यार की मेरी ख्‍वाहिश कभी घटी नहीं
हूर जन्नत के मुझे लगती है तू
मेरी नज़र को बड़ जचती है तु
देख मंझर बड़ गये है होसले

क़ाफिले नूर के तेरे संग संग चले
असमान मैं चाँद भी जैसे खिले खिले

छा गया मुझ पे ऐसा तेरा ही खुमार
कर ले मेहफिल में तेरी, अब मेरा शुमार

हो..
छा गया मुझ पे ऐसा तेरा ही खुमार
कर ले मेहफिल में तेरी, अब मेरा शुमार
आपनी संसों में मुझे बसा ले तू
तुझे मरने का मुझे सिला दे तू
अब तो कर ले कुछ ना कुछ तू फैसले

क़ाफिले नूर के तेरे संग संग चले
असमान मैं चाँद भी जैसे खिले खिले