धूड़ पेंदी Dhoor Pendi Lyrics In Hindi – Kaka

Dhoor Pendi Lyrics In Hindi – Kaka

कोई नार जे अहंकार हुस्ना दा करदी
ओहनू दस दीं बाज़ारां विच मूल विकदे
फेक यार वी शिकार उत्ते निकले बड़े
दस तां जुबाना उत्ते कोण टिकदे

पैदल जे कोई तेरे नाल चल पई
घुट के फड़ी तू हथ छड्डी ना कदे
ओहनू तर्ज बना ली आप गीत बन जाईं
तर्ज नु गीत विचों कड्डी ना कदे

साफ़ नीत वालियां ना मिलण किते
सच्चे दिल वालियां ना मिलण किते
मैं लभ लभ हार गया सौं पीर दी
रांझेयाँ वे कर किथों हिला कार दा
गुड़ी जे मोहोब्बत तू चाहुने हीर दी

धूड़ पेंदी Byke उत्ते कोंण बैठुगी
अलहडा दी अखं जांदी शीशे चीरदी
रांझेयाँ वे कर किथों हिला कार दा
गुड़ी जे मोहोब्बत तू चाहुने हीर दी

हुस्ना दे पुतले ने दूरों तक ओये
नेड़े ना तू जाई मिलना नी कख ओये
लारे ते यकीन वादेयां ते शक ओये
दिल दे स्टेयरिंग ते काबू रख ओये

बग्गी जेहि लुम्बड़ी मासूम बन गई
काके तेरी लुम्बड़ी मासूम बन गई
मैनु तां एह मामला खराब लगदे
कई वारी चीज़ उत्तों ठंडी लगदी
असल च गरम हुंदी तासीर दी

धूड़ पेंदी Byke उत्ते कोंण बैठुगी
अलहडा दी अखं जांदी शीशे चीरदी
रांझेयाँ वे कर किथों हिला कार दा
गुड़ी जे मोहोब्बत तू चाहुने हीर दी

तैनू लोड़ की ऐ पिछे पिछे जाणदी
महंगे जे ब्रांड केरा पाके देख ले
सोहनी तेरी, तेरा आपे हाल पुछुगी
महिवाल खेड चाल आजमा के देख ले

केहरा भेड़ चाल आजमा के देख ले
तू वी शोशे बाजियां च आके देख ले

इश्क मोहोब्बत भुलेखे मन्न दे
गर्मी जी कड्डनी हुंदी शरीर दी
लंघगी जवानी किस्से किस कम दे
कीमत बड़ी ऐ नजर दे तीर दी

धूड़ पेंदी Byke उत्ते कोंण बैठुगी
अलहडा दी अखं जांदी शीशे चीरदी
रांझेयाँ वे कर किथों हिला कार दा
गुड़ी जे मोहोब्बत तू चाहुने हीर दी

छोटी होवे चल जुगी कोई गल नी
पर गड्डी विच होवे AC चलदा
हुस्ना दे जड़ विच पैसा बैठा ऐ
पैसा बुनियाद प्याराँ वाली गल दा

नोट कड्डो जेब चों गुलाबी रंग दे
हर गुस्ताखी होजू माफ़ सज्जना
रज रज करो भावें रंगरलियाँ
बोलदा नहीं कोई वी खिलाफ सज्जना

ईने मिट्ठे मिट्ठे बोल पेश होणगे
ईने मिट्ठे मिट्ठे बोल पेश होणगे
फिक्की फिक्की लगुगी मिठास खीर दी
रांझेयाँ वे कर किथों हिला कार दा
गुड़ी जे मोहोब्बत तू चाहुने हीर दी

Dhoor Pendi Lyrics In Hindi