me samjha tha tum ho lyrics

me samjha tha tum ho lyrics song and it is sung by Rahat Fateh Ali Khan sir. Music of this song given by ARY Digital and the Video of this song directed by Nadeem Baig.

Songme samjha tha tum ho lyrics
SingerRahat Fateh Ali Khan
WriterKhalil Ur Rehman Qamar
DirectorNadeem Qama
LabelARY Digital
CastHumayun Saeed, Ayeza Khan, Hira Manil

me samjha tha tum ho lyrics In hindi


भूल जाने का हुनर
मुझको सिखाते जाओ
जा रहे हो तो सभी नक़्श
मिटाते जाओ

चलो रस्मन ही सही
मुद के मुझे देख तो लो
तोड़ते तोड़ते तालुक़ को
निभाते जाओ

कभी कभी यह मुझे सताए
कभी कभी ये रुलाए

कभी कभी यह मुझे सताए
कभी कभी ये रुलाए

फ़क़त मेरे दिल से उतर जाइयेगा
फ़क़त मेरे दिल से उतर जाइयेगा
बिचारणा मुबारक बिचार जाइयेगा

कभी कभी यह मुझे सताए
कभी कभी ये रुलाए

में समझा था तुम हो
तू किया और मांगूं
मेरी ज़िन्दगी में
मेरी आस तुम हो

में समझा था तुम हो
तू किया और मांगूं
मेरी ज़िन्दगी में
मेरी आस तुम हो

यह दुनिया नहीं है
मेरे पास तो क्या
मेरा ये भरम था
मेरे पास तुम हो

मगर तुम से सीखे
मोहब्बत भी हो तू
दग़ा कीजियेगा
मुकर जाइयेगा

तेरा हाथ कल तक
मेरे हाथ में था
तेरा दिल धड़कता था
दिल में हमारे

ये मग़रूर आँखें
जो बदली हुई हैं
कभी हम ने इनके
सड़के उतारिये

कहीं अब मुलाक़ात
हो जाए हम से
बचा कर नज़र को
गुज़ार जाईयेगा

जीना है तेरे बिना
जीना है तेरे बिना
जीना है अब मुझको तेरे बिना

me samjha tha tum ho lyrics


Bhool Jaane ka hunar
Mujhko sikhaate jao
Jaa rahe ho to sabhi naqsh
Mitaatey jao

Chalo rasman hi sahi
Mud ke mujhe dekh to lo
Torte torte taaluq ko
Nibhaatey jao

Kabhi kabhi yeh mujhe sataye
Kabhi kabhi ye rulaye

Kabhi kabhi yeh mujhe sataye
Kabhi kabhi ye rulaye

Faqat mere dil se utar jaiyega
Faqat mere dil se utar jaiyega
Bicharna Mubarak bichar jaiyega

Kabhi kabhi yeh mujhe sataye
Kabhi kabhi ye rulaye

Mein samjha tha tum ho
Tu kiya aur mangun
Meri zindagi mein
Meri aas tum ho

Mein samjha tha tum ho
To kiya aur mangun
Meri zindagi mein
Meri aas tum ho

Yeh duniya nahi hai
Mere pass to kiya
Mera ye bharam tha
Mere pass tum ho

Magar tum se seekha
Mohabbat bhi ho tu
Dagha kijiye ga
Mukar jaiye ga

Tera haath kal tak
Mere haath mein tha
Tera dill dhadakta tha
Dil mein hamaare

Ye maghroor aankhein
Jo badli hui hain
Kabhi hum ne inke
Sadqay utaarey

Kaheen ab mulaqaat
Ho jaaye hum se
Bacha kar nazar ko
Guzar jaaiyega

Jeena hai tere binaa
Jeena hai tere binaa
Jeena hai ab mujhko tere bina