धूर पैन्दि Dhoor Pendi Lyrics in Hindi – Kaka

धूर पैन्दि Dhoor Pendi Lyrics in Hindi – Kaka

Song : Dhoor Pendi Lyrics in Hindi
Singer : Kaka
Feat : Karan Ambarsariya
Lyrics : Kaka
Music : New Dimension Music

धूर पैन्दि Dhoor Pendi Lyrics in Hindi

धूर पैन्दि बिके उत्ते कौन बैठुगी
अलहदा दी आँख जाँदी शीशे चिर दी
रांझेया वे कर कीःतों हिला कर दा
गूधी जे मोहब्बत तू चौनाए हीर दी

कोई नार जे अहंकार हुसना दा करदी
ओहनु डॅस दी बाज़ारा विच मल बिकड़े
फेक यार वी शिकार उत्ते निकले बड़े
डॅस तां ज़ुबाना उत्ते कौन तिकड़े

कोई नार जे अहंकार हुसना दा करदी
ओहनु डॅस दी बाज़ारा विच मल बिकड़े
फेक यार वी शिकार उत्ते निकले बड़े
डॅस तां ज़ुबाना उत्ते कौन तिकड़े

महफ़िल जे कोई तेरे नाल चल पाई
उठ के फादी तू हाथ चड्डी ना कड़े
ओहनु तराज़ बणली आप गीत बन जाई
तराज़ नू गीत विचों कद्दी ना कड़े

सॉफ नियत वालियान ना मिलन काइट
सचे दिल वालियान ना मिलन काइट
मैं लाभ लाभ हार गया सोन पियर दी
रांझेया वे कर कीःतों हिला कर दा
गूधी जे मोहब्बत तू चौने हीर दी

धूर पैन्दि बिके उत्ते कौन बैठुगी
अलहदा दी आँख जाँदी शीशे चिर दी
रांझेया वे कर कीःतों हिला कर दा
गूधी जे मोहब्बत तू चौने हीर दी

हुसना दे पुतले ने डूरों तक ओये
नेडे ना तू जाई मिलना नि कक ओये
लारे ते यकीन वादेयान ते शक ओये
दिल दे स्टेआरिंग ते काबू रख ओये

पक्की जही लुंबदी मासूम बन गयी
काके तेरी लुंबदी मासूम बन गयी
मैनउ तां आए मामला खराब लगडे
काई वारी चीज़ उत्तो ठंडी लगदी
असल च गर्म हुंडई ताशीर जी

धूर पैन्दि बिके उत्ते कौन बैठुगी
अलहदा दी आँख जाँदी शीशे चिर दी
रांझेया वे कर कीःतों हिला कर दा
गूधी जे मोहब्बत तू चौने हीर दी
गूधी जे मोहब्बत तू चौने हीर दी

टैनउ लोड की आ पीछे पीछे जान दी
महनगे जे ब्रांड कहरा पा के देख ले
सोहनी तेरी तेरा आपे हॉल पूछुगी
महिवाल खेद चल आज़मा के देख ले

कहरा भेद चल आज़मा कह देख ले
तू वी सोसए बाज़ियाँ च आके देख ले

इश्क़ मोहब्बत भुलेखे मॅन दे
गर्मी जी कड़दनी हुंडई शरीर दी
लंग गी जवानी किसे किस कॅम दे
कीमत बड़ी है नज़राण दे तीर दे

धूर पैन्दि बिके उत्ते कौन बैठुगी
अलहदा दी आँख जाँदी शीशे चिर दी
रांझेया वे कर कीःतों हिला कर दा
गूधी जे मोहब्बत तू चौनाए हीर दी

छोटी होवे चल जुगी कोई गॉल नि
पर गद्दी विच होवे एसी चाल्ड़ा
हुसना दे जड़ विच पैसा बैठा आए
पैसा बुनियाद प्यारान वाली गॉल दा

नोट कद्दों जेब छो गुलाबी रंग दे
हर गुस्ताख़ी होज़ू सज्जना
राज़ राज़ करो भवें रंगरलियाँ
बोल्डा नि कोई वी खिलाफ सज्जना

एन्ने मीठे मीठे बोल पेश होंगे
एन्ने मीठे मीठे बोल पेश होंगे
फिक्की फिक्की लगगुगी मिठास खीर दी

रांझेया वे कर कीःतों हिला कर दा
गूधी जे मोहब्बत तू चौने हीर दी
रांझेया वे कर कीःतों हिला कर दा
गूधी जे मोहब्बत तू चौने हीर दी